D Pharma में कितने सब्जेक्ट होते हैं?। ( D Pharma subject in hindi )

D Pharma में कितने सब्जेक्ट होते हैं :- दोस्तों आज हम जानेंगे कि डी फार्मा में कितने विषय होते हैं?या ( डी फार्मा में कौन-कौन से विषय होते हैं ) आज के आर्टिकल में हम आपको D Pharma व इसके अंदर में कितने सब्जेक्ट होते हैं और यह कोर्स कितने वर्ष का होता है इसके बारे में हम पूरी जानकारी देंगे डी फार्मा में कितने विषय होते हैं जानने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़िए

दोस्तों अगर आपको मेडिकल फील्ड में अपना कैरियर बनाना है तो D Pharma कोर्स पूरा करने के बाद आप फार्मा कंपनी में जॉब ले सकते हैं या सरकारी जॉब भी कर सकते हैं या दोस्तों आप मेडिकल खोल कर भी पैसे कमा सकते हैं

डी फार्मा में कितने सब्जेक्ट होते हैं यह जानने से पहले यह जानना भी बहुत महत्त्वपूर्ण हो जाता है कि डी फार्मा क्या होता है?

"<yoastmark

D Pharma क्या होता है

डी फार्मा एक डिप्लोमा कोर्स होता है जिसमें आपको दवाई के निर्माण से लेकर उसकी मार्केटिंग करने की जानकारी दी जाती है बेसिकली डी फार्मा के स्टूडेंट को दवा कैसे बनाया जाता है दवा कैसे दिया जाता है दवा को मार्केट में कैसे बेचा जाता है और  दवाओं से सम्बंधित सॉफ्टवेयर की भी जानकारी दी जाती है

अगर आपने साइंस सब्जेक्ट से 12वीं पास किया है तो आप डी फार्मा का कोर्स कर सकते हैं यह  कोर्स 2 वर्ष का होता है जिसे पूरा करने के बाद आपको सर्टिफिकेट दिया जाता है, फिर आप सरकारी या प्राइवेट फार्मा कंपनी में जॉब भी ले सकते हैं या ख़ुद की मेडिकल शॉप भी खोल सकते हैं

डी फार्मा में कितने सब्जेक्ट होते है?

दोस्तों डी फार्मा के 2 वर्ष के कोर्स में  आपको 12 सब्जेक्ट पढ़ने होते हैं जिसमें

1st yea     –        6 subject

2st year    –         6 subject

दोस्तों इन 12 विषयों में थेवरी के साथ आपको प्रैक्टिकल भी कराया जाता है

D Pharma में कितने सब्जेक्ट होते हैं (D Pharma me kitne subject hote hae)

 

जैसा कि दोस्तों आप जानते हैं कि डी फार्मा में 12 सब्जेक्ट होते हैं जिसमें से फर्स्ट ईयर में 6 सब्जेक्टसेकंड ईयर में 6 सब्जेक्ट आपको पढ़ाया जाता है तो आइए पहले फर्स्ट ईयर के 6 सब्जेक्ट के बारे में आपको हम विस्तार से बताते हैं

D Pharma 1st year के विषय

#1. Pharmaceutics 1 यह आपका पहला विषय होता है इसके दौरान आपको दवाई बनाना, पाउडर वाली दवाई बनाना, टेबलेट बनाना, कैप्सूल बनाना, सिखाया जाता है,

इसमे आपको दवाईयो के उपयोग से लेकर उसे बनाने तक की जानकारी दी जाती है, तथा इसमें आपको प्रैक्टिकल भी कराया जाता है

#2. Pharmaceutical chemistry 1 – इसमें आपको केमिस्ट्री की जानकारी दी जाती है जैसे कि दवाई किस चीज से बना है इन सब की जानकारी आपको इस में दी जाती है इस विषय में आपको भी प्रैक्टिकल कराया जाता है, तथा दवाइयों के कंपाउंड के बारे में भी बताया जाता है

#3. Pharmacognosy – इस विषय के अंतर्गत आपको क्रूड मेडिसिन के बारे में पढ़ाया जाता है जिसमें आपको पेड़ पौधे व जानवरों से प्राप्त होने वाले दवाइयों के बारे में जानकारी दी जाती है इस विषय में आपको घरेलू दवाइयों व औषधि के बारे में भी पढ़ाया जाता है इसमें भी आपको थ्योरी के साथ-साथ प्रैक्टिकल भी कराया जाता है

#4. Biochemistry chemical pathology – इस विषय के अंतर्गत आपको केमिकल व एंजाइमों के बारे में पढ़ाया जाता है जिसमें आपको बताया जाता है कि केमिकल व एंजाइम हमारे शरीर में किस प्रकार  काम करती है तथा पैथोलॉजी लैब से सम्बंधित खून टेस्ट, यूरिन टेस्ट व विभिन्न प्रकार के टेस्ट को सूक्ष्मदर्शी के द्वारा समझाया जाता है,

#5. Human anatomy physiology :- इस विषय के अंतर्गत मानव शरीर के बारे में पढ़ाया जाता है जिसमें आपको यह बताया जाता है कि मानव शरीर में कौन-कौन से अंगों पर कौन-कौन से रोग होते हैं इन रोगों के लिए कौन-सी दवाई उपयोग में लाई जाती इन सभी की जानकारी आपको Human anatomy physiology के विषय में दी जाती है,

#6. Health education community pharmacy :- जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है इसमें हमें मानव शरीर के बारे में जानकारी दी जाती है, फिट रहने के तरीके व हेल्थ को स्वस्थ रखने की जानकारी दी जाती है, इस विषय में आपको प्रैक्टिकल नहीं कराया जाता है सिर्फ़ थ्योरी नॉलेज ही दी जाती है,

इस तरह आपको फर्स्ट ईयर में इन 6 विषयो के बारे में पढ़ाया जाता है,

D Pharma 2st year के विषय

#1. Pharmaceutics 2 :- इस विषय में  आपको फर्स्ट और सेकंड दोनों ईयर पढ़ना होता है फर्स्ट ईयर में जितनी भी इस विषय से सम्बंधित आप को पढ़ाया जाता है उससे आगे सेकंड ईयर में पढ़ाया जाता है, इसके अंतर्गत अलग-अलग प्रकार की दवाइयाँ कैसे बनाई जाती है इसकी भी जानकारी आपको दी जाती है

#2. Pharmaceutical chemistry 2 :- इस विषय में पहले ईयर में आपको केमिकल स्ट्रक्चर की थोड़ी बहुत जानकारी दी जाती है लेकिन सेकंड ईयर में आपको  दवाइयाँ बनाने में प्रयोग होने वाले कंपाउंड स्ट्रक्चर के बारे में पूरा पढ़ाया जाता है

#3. Pharmacognosy toxicolgy :- इस विषय के अंतर्गत  हमें क्रूड मेडिसिन जिनसे प्राप्त होता है जैसे- पेड़ पौधे, जीव जंतु, व पर्यावरण पर जहरीले पदार्थों से होने वाले दुष्प्रभाव के बारे में पढ़ाया जाता है तथा इसके रोकथाम के उपाय बताए जाते हैं, कुल मिलाकर कहा जाए तो इसमे हमें जहरीले पदार्थों की स्टडी कराई जाती है,

#4. Pharmaceutical jurisprudence :- इस विषय में हमें मुख्य रूप से दवाइयों के बारे में ही पढ़ाया जाता है जिसके अंदर हमें नई-नई दवाइयों का आविष्कार करना सिखाया जाता है, किसी रोग के लिए दवाइयाँ बनाना, व किस रोग लिए कौन-सी दवाई बेहतर है, इन सभी के बारे में आपको इस विषय में पढ़ाया जाता है,

#5.Drug store business management :- जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है इसमें आपको Drug business management करना सिखाया जाता है, इसके अंतर्गत मेडिकल या ड्रग स्टोर को किस प्रकार चलाया जाता है, तथा इसे किस प्रकार मैनेज किया जाता है यह भी हमें इस विषय में सिखाया जाता है अगर आप डी फार्मा करने के बाद मेडिकल स्टोर खोलना चाहते हैं तो यह विषय आपके लिए बहुत ही ज़्यादा उपयोगी होगा,

#6. Hospital clinical pharmacy :- इस विषय के अंतर्गत हॉस्पिटल में कैसे किसी मरीज की देखभाल की जाती है उसे किस प्रकार की दवाई दी जाती है उसका किस प्रकार से ध्यान रखा जाता है यह सभी बातें हमें इस विषय में सिखाई जाती है

दोस्तो  डी फार्मा के 2 साल के कोर्स में 12 प्रकार की विषय होते हैं जिनको मैंने आपको आसान भाषा में समझाया है आशा करता हूँ कि आप सभी विषयों के बारे में आसानी से समझ गए होंगे

अन्य भी पड़े 

 

हमने सिखा :- D Pharma में कितने सब्जेक्ट होते हैं

दोस्तों भारत एक विकासशील देश है जो अपने मेडिकल सुविधाओं में भी विकास तेजी से विकास कर रहा है जिससे भारत में अभी मेडिकल क्षेत्रों में लोगों की बहुत ही ज़्यादा आवश्यकता है अगर आप डी फार्मा कोर्स   करते हैं तो आपका विभिन्न क्षेत्रों के मुकाबले देखा जाए तो इसमें नौकरी मिलने के  चांस ज़्यादा होते हैं अगर नौकरी नहीं मिली तो आप एक मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं व छोटी क्लीनिक भी खोल सकते हैं, लेकिन आपकी इस कोर्स को करने के बाद बेरोजगार नहीं रहेंगे,

आशा करता हूँ आज का हमारा टॉपिक ( D Pharma में कितने सब्जेक्ट होते हैं )आपको ज़रूर पसंद आया होगा, ऐसे ही सरल भाषा में जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे वेबसाइट omutech. in रेगुलर विजिट करते रहें। धन्यवाद।

 

Leave a Comment